आदर्श विद्यार्थी कैसे बने के 10 गुण ideal student in hindi

    आदर्श विद्यार्थी कैसे बने के 10 गुण: एक अच्छा स्टूडेंट हमेसा से लोगो के दिमाग अपनी जगह बना लेता है क्योकि आदर्श विद्यार्थी के अंदर यह गुण मौजूद होते है आदर्श विद्यार्थी अपने सभी कार्यो को सही समय पर पूरा लेता है साथ ही परीक्षा देकर बढ़िया अंक लाता है इस तरह से वह दिखा देता है की मेरे अंदर क्या खास बाते है वही स्कूल मे कुछ बुरे विद्यार्थी भी होते है जो स्कूल से लेकर घर तक अपना जीवन मौजमस्ती मे गुजार देता है | आपको एक सीख याद रखनी चाहिए कि स्टूडेंट जीवन ही आपका भविष्य तह करता है तो अगर इस समय को आपने खराब कर दिया तो आपका पूरा जीवन खराब हो जाता है इस समय को मौजमस्ती मे नहीं बल्कि जीवन को सही दिशा मे ले जाने के लिए प्रयोग करना चाहिए

    अगर आप एक स्टूडेंट है तो आपको एक आदर्श विद्यार्थी बनकर अपने जीवन को बनाना चाहिए तो आज हम आपको आदर्श विद्यार्थी के 10 गुण के बारे मे बताने जा रहे है

    adarsh vidyarthi ke gun

    आदर्श विद्यार्थी कैसे बने ?

    एक आदर्श विद्यार्थी को इस बात की पूरी खबर होती है की उसे आगे क्या करना है और उसी के हिसाब से अपने वर्तमान समय का प्रयोग करता है मतलब साफ है कि आदर्श विद्यार्थी को आगे जो भी बनना है उसे अपने मकसदl और लक्ष्य के बारे मे पता होना चाहिए

    ‌‌‌यदि आप भी अच्छे स्टूडेंट बनना चाहते हैं तो आज से अभी से अपना कोई लक्ष्य तय करें और उसको पाने के लिए दिन रात एक कर दें

    आदर्श विद्यार्थी के 10 गुण

    एक आदर्श विद्यार्थी वही बन पाता है जो अपने समय का सही उपयोग करे जैसे उसे कब खेलना है और कब पढ़ना है कितनी देर तक क्या पढ़ना है मतलब अपने समय का उपयोग कैसे करे यानि आदर्श विद्यार्थी  को टाइम मैनेजमेंट करना अच्छी तरह से आता है और वह अपने सभी कार्यो को सही समय पर पूरा करता है
    • अपने कार्य के प्रति ईमानदारी - आदर्श विद्यार्थी अपने सभी कार्यो को बहुत से मन से पूरा करता है इसलिए वह सभी चीजों मे सबसे आगे होता है जैसे आपने एक कहावत सुनी होगी बूंद बूंद से घड़ा भरता है | तो आदर्श विद्यार्थी हमेशा अपने कार्यो मे सफल इसलिए हो जाता है क्योकि वह शुरू से दिमाग तेज नहीं होता बल्कि वह खुद को तेज बनाता है | इसके लिए वह हार्ड मेहनत करता है
    • अधिक मानसिक एकाग्रता ‌‌‌ यह काफी बड़ा गुण अच्छे स्टूडेंटस के अंदर होता है। वे मानसिक रूपसे काफी ज्यादा एकाग्र होते हैं। जबकि आम स्टूडेंट मानसिक रूप से उनके जितना एकाग्र नहीं रह पाता है। यदि आम स्टूडेंट को भी रूप से एकाग्र बनने की क्षमता देदी जाए तो वह भी आसानी से एक अच्छा स्टूडेंट बन सकता है। अच्छे स्टूडेंट ‌‌‌के पास अच्छी मानसिक एकाग्रता होने के पीछे कई वजह होती हैं। वह यह कि ऐसे स्टूडेंट का कोई भी प्रिय काम नहीं होता है। और शहरी स्टूडेंट अधिक मानसिक रूप से एकाग्र होता है। वह ऐसे ही घर के अंदर बैठे रहते हैं। जबकि कुछ स्टूडेंट अधिक एंजोय करने लग जाते हैं। जिसकी वजह से वे पढ़ाई को बोरिंग समझने ‌‌‌लग जाते हैं। मतलब जो इंसान सरल काम करता है । उसे बादमे टफ काम करवाएं तो उसे अच्छा नहीं लगता है। और जो ठफ काम से ही र्स्टाट करता है। उसके लिए हर चीज सरल हो जाती है
    • समय का दुरुपयोग जो स्टूडेंट अपने समय को फजूल के कामो मे बर्बाद करते है वह एक अच्छा स्टूडेंट नहीं हो सकता और यह गुण एक आदर्श विद्यार्थी  मे नहीं होता इसलिए वह अपने आपको सबसे अलग पाता है | बहुत से स्टूडेंट बहाना बनाते है की आज मेरा मूड सही नहीं है या फिर इधर उधर घूमते है और इस तरह से अपने समय का दुरुपयोग करते है और बाद मे किसी काम के नहीं होता है तो यह गुण एक अच्छे आदर्श विद्यार्थी  मे नहीं हो सकते
    • हमेशा कुछ नया सीखने की इच्छा एक आदर्श विद्यार्थी  हमेशा कुछ न कुछ सीखता रहता है और उसके अंदर यह भावना हमेशा रहती है | जब भी वह कुछ सुनते है तो उनके मन मे कुछ सवाल पैदा होता है | यह क्यू है और कैसे है और नहीं पता होने पर वह हमेशा अपने मित्रो या फिर अध्यापक से पता कर लेता है
    • अपनी कमियो से सीख लेना आदर्श विद्यार्थी  हमेशा अपनी कमीयो को दूर करने की कोशिश करता है वही कमजोर व्यक्ति उसे छुपाने के फिराक मे रहता है | इसलिए आदर्श विद्यार्थी  आगे और कमजोर पीछे ही पीछे रहते है | हमेशा अपने कमियो को दूर करना चाहिए चाहे आपकी बेजजती ही क्यो न हो रही हो