जूता का इतिहास रोचक जानकारी | amazing fact about shoes

    जूता तो पहनते होंगे लेकिन जुता की खोज या आविष्कार किसने किया ? जूता पैरों में पहनने की एक ऐसी वस्तु है जिसका प्रयोग मनुष्य अपने पैरो की ईंट पत्थर काटे और पैरो को मरुस्थली स्थानों पर जलने से बचाने के लिए और सुरक्षा के लिए जूतों का उपयोग करता है यह एक सजावट की वस्तु के रूप में भी किया जाता है.

    amazing fact about shoes

    जूतों का इतिहास एंव रोचक जानकारी तथ्य

    • चाईना मे नई दुल्‍हन के लाल जूते को छत से फेंक दिया जाता है, इसके पीछे मान्‍यता ये है कि ऐसा करने से नए जोड़े के जीवन में खुशहाली आती है।
    • North Dakota में यदि आप जूते पहने हुए लेट जाते हैं या सो जाते हैं तो इसे कानूनन अपराध माना जाता है
    • यदि Maine में आप किसी गली में चल रहे हो और आपके जूते की Lace खुली है तो इसे गैर कानूनी माना जाता है
    • एक जूते के निर्माण में 100 से ज्‍यादा प्रकार के Operations होते हैं।
    • 18वीं शताब्‍दी तक Europe में पुरूष और महिलाओं के जूते एक जैसे ही आते थे, उन जूतों में कोई फर्क नहीं होता था।
    • Winnatka, Illinois नामक देश में यदि आपने सिनेमा घर में जूते उतारे और उनमें से बदबू आ रही है तो इसे कानून के खिलाफ माना जाता है और आप पर मुकदमा दायर हो सकता है।
    • सबसे पहला जूता 4000 साल पहले चमड़े से बनाया गया था, जो गर्मी से पैरो की सुरक्षा करता था।
    • 9वीं और 10वीं शताब्‍दी में यूरोप के राज-कुमार लकड़ी से बने जूते पहना करते थे।
    • सेक्पीयर के समय से भी पहले चप्‍पल का प्रयोग था, और सही मायने में उस समय भी Slippers दोनों पैरो के अलग-अलग आते थे
    • पहली बार महिलाओं के लिए 1840 में जूते Design किये गये थे और वो महारानी विक्‍टोरिया के थे।
    • स्पेन की एक गुफा में 15000 साल पुरानी पेंटिग मे जूते की चित्र को दर्शाया गया है।
    • वर्तमान में जो जूते का Fashion चल रहा है, यह 1633 में England द्वारा लाया गया था।
    • जूतों में Heels का उपयोग इसलिए किया जाने लगा, जिससे रेगिस्‍तानी इलाके में जलती रेत से ऐडी को बचाया जा सके।
    • अमेरिका में सबसे ज्‍यादा बिकने वाले जूतों का Size है, 8.5 महिलाओं के लिए और 10.5 पुरूषों के लिए
    यह थी जूतों की चटपटी बाते आपको कैसी लगी hme अपनी प्रतिक्रिया देना न भूले ! अगर आपके पास भी जूतों से सम्बन्धित या किसी ऐसी ही टॉपिक पर जानकारी हो तो हमे कॉंटेक्ट अस द्वारा भेज सकते है