सूक्ष्मदर्शी की खोज कब और किसने किया

    आपने बहुत बार सूक्ष्मदर्शी का नाम सुना होगा और प्रयोग भी किया होगा पर क्या आपको पता सूक्ष्मदर्शी की खोज या आविष्कार किसने किया अगर नहीं तो आगे जाने सूक्ष्मदर्शी क्या है और इसके क्या प्रयोग है और इसके खोजकर्ता कौन है के बारे मे बताने वाले है

    microscope ki khoj kisne ki

    सूक्ष्मदर्शी की खोज कब और किसने किया

    सूक्ष्मदर्शी (अंग्रेज़ी:माइक्रोस्कोप) एक वैज्ञानिक उपकरण है। सूक्ष्मदर्शी का आविष्कार जेड. जानसेन (नीदरलैण्ड) ने वर्ष 1590 में किया था। यह छोटी वस्तुओं को आवर्धित करके बड़ा कर देता है,; अतः जिन वस्तुओं को आँखों से नहीं देखा जा सकता, उन्हें इस उपकरण से देखा जा सकता है सूक्ष्मदर्शन के क्षेत्र में इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी की खोज अत्यंत महत्वपूर्ण मील का पत्थर माना जाता है क्योंकि इसकी खोज के बाद वस्तुओं को उनके वास्तविक आकार से कई हजार गुना बड़ा करके देखना संभव हुआ था

    सूक्ष्मदर्शी के प्रकार

    • प्रकाशकीय सूक्ष्मदर्शी
    • इलेक्ट्रॉन सूक्ष्मदर्शी
    • परमाण्विक बल सूक्ष्मदर्शी यंत्र
    • घर्षण बल सूक्ष्मदर्शी यंत्र
    • अवलोकन टनलिंग सूक्ष्मदर्शी यंत्र
    • अवलोकन अन्वेषिका सूक्ष्मदर्शी यंत्र
    • अवलोकन वोल्टता सूक्ष्मदर्शी यंत्र
    सूक्ष्मदर्शी  के उपयोग
    • सूक्ष्मदर्शी का उपयोग जीव विज्ञान मे मुख्य रूप से किया जाता है विश्व भर सूक्ष्मदर्शी का उपयोग कई कार्यो के लिए किया जाता है जैसे - रोगो के नियंत्रण, नई औषधियों की खोज के लिए आज के समय मे बहुत ही आधुनिक प्रकार के सूक्ष्मदर्शी आ चुके है जोकि पहले के सूक्ष्मदर्शी से कई गुना अच्छे है
    • आज सूक्ष्मदर्शी का प्रयोग वस्तुओ को देखने के साथ साथ और भी छेत्रों मे इसका प्रयोग किया जाता है -  द्रव्यों के कणों के मापने, गणना करने और तौलने के लिए 
    • आज सूक्ष्मदर्शी का उपयोग कायचिकित्सा (Medicine), जीवविज्ञान (Biology), शैलविज्ञान (Perology), मापविज्ञान (Metrology), क्रिस्टलविज्ञान (Crystallography) एवं धातुओं और प्लास्टिक की तलाकृति के अध्ययन में व्यापक रूप से ही हो रहा है