नाग पंचमी क्यों मनाई जाती है का इतिहास

    हिन्दू धर्म मे नागपंचमी का विशेष महत्व है इसलिए हिन्दू धर्म को मानने वाले इस पर्व बड़ी ही धूम धाम और हर्षोउल्लास के साथ मनाते है आगे जाने नाग पंचमी क्यों मनाई जाती है का इतिहास.
      nag panchami photo

      नाग पंचमी क्यों मनाई जाती है

      नाग पंचमी पर हिन्दू धर्म के मान्यता के अनुसार भगवान शिव जी सर्पो की माला धारण करते है और विष्णु भगवान शेष नाग का शयन करते है इसलिए इनकी पुजा के लिए हर साल श्रावण महीने मे सुकल पंचमी को नाग पंचमी त्योहार मनाया जाता है हिन्दू धर्म मे नागो का अस्तित्व सदियो से और काफी पुराना है

      आप जो भी सोचे लेकिन एक बात इन्सानो का ही मानना है नाग और इंसान के बीच नकारत्मक प्रभाव होता है और हमारे पूर्वज का मानना या कहना है कि जब नाग अपने दिन की शुरुवात करते है तो उनकी भगवान से यही प्राथना होती है कि नागो का इंसान से सामना ना हो इसका मतलब यह नहीं कि वह इंसान से घृणा करते है बल्कि वह इंसान से डरते है लेकिन आपको हम बता दे इसका कोई प्रमाण नहीं मिला है |

      नाग पंचमी का इतिहास

      हिंदु धर्मो के पुरानो के अनुसार नागो के बारे मे आश्चर्य करने वाली सच्चाई सामने आती है महाभारत की कहानियो से पता चलता है की नाग भारत की जाती थी और इस जाती की आर्यों से संघर्ष चलता था और इस संघर्ष को आस्तिक ऋषिओ ने आर्यों और नागो के बीच सुलह कराने की बहुत कोशिश की थी

      अब आपको बता दे ऋषियों द्वारा सुलह नागो और आर्यों की बीच सफल हुई इसी कारण दोनों प्रेम सूत्र मे बंध गए और साथ ही दोनों मे वैवाहिक सम्बंध होने लगे इस तरह दोनों जातियो मे संघर्ष समाप्त हुआ सर्पभय से मुक्ति के लिए आस्तिक का भी नाम लिया जाता है