भारतीय रेल के इतिहास की जानकारी

    railway ki jankari hindi mai अगर आप भारतवासी है तो आपने जरूर भारतीय रेलवे ट्रेन से सफर किया होगा लेकिन जिस रेलवे से आप सफर कर चुके है या कर रहे है उसके बारे मे कितना आप जानते है आगे जाने भारतीय रेल के इतिहास की जानकारी

    railway ki jankari hindi mai

    भारतीय रेल का इतिहास जानकारी

    • भारतीय रेलवे का शुभ आरम्भ 16 अप्रेल 1853 मे हुआ और आज के समय मे इतनी ज्यादा पटरिया बिछा दिया गया है कि उन्हे अगर सीधा जोड़कर कर दिया जाए तो उनकी लंबाई पृथ्वी के आकार से भी 1.5 गुना ज्यादा हो जाएगी |
    • आपको पता ही होगा आए दिन Train भिड़ंत होती रहती है लेकिन कभी भी ऐसा नहीं हुआ की किसी Train ड्राइवर द्वरा मौत सामने होते हुए ट्रेन को छोड़ दिया हो 
    • एक ऐसा भी रेलवे स्टेशन है जो 2 राज्यो की सीमा को छूती है ओर उस स्टेशन का नाम है भवानी मंडी | भवानी मंडी MP और राजस्थान दोनों राज्यो के सीमा को छूती है |
    • अगर बात की जाए सबसे बड़े नाम वाले स्टेशन की तो वेंकटनरसिम्हाराजुवारिपटा है और सबसे छोटे नाम वाला स्टेशन नावाला रेलवे स्टेशन इब है जो ओड़ीशा मे है |
    • देश की सबसे देरी से चलने वाली ट्रेन गोवाहाटी - त्रिवेंदरम् है एकप्रेस है जो लगभग 10 - 12 घंटे देरी से चलती है
    • सबसे हैरान करने वाली बात है यह है की भारतीय रेलवे की वैबसाइट पर 12 लाख प्रति मिनट से ज्यादा हिट होते है साथ ही Indian Railway Website पर Cyber Attack भी होते है लेकिन railway Website पर इसका कोई फर्क नहीं पड़ता |
    • भारत मे सबसे लंबी दूरी यात्रा करने वाली ट्रेन विवेक एकप्रेस है जो डिब्रूगण से कन्याकुमारी तक दूरी 4273 Km तह करती है |
    • गोरखपुर (भारत) रेलवे स्टेशन का प्लेटफॉर्म दुनिया का सबसे लंबा रेलवे प्लेटफॉर्म है, जिसकी लंबाई 1380 मीटर है| इसके पहले खड्गपुर पहले पायदान पर था, जिसके प्लेटफार्म की लंबाई 1072.5 मीटर है