स्टार्टअप क्या है बिज़नेस आईडिया हिंदी में

    भारत में पेशवरों की कमी नहीं है, लेकिन वे ज्यादातर दूसरों के साथ नौकरी करने में विश्वास करते है. ऊँची तकनीक और मैनेजमेंट की डीग्री लेने के बाद वे अमेरिका और यूरोपीय देशों में काम करने चले जाते है और वहां की बड़ी कम्पनियों को मजबूत करते है या भारत में उन्ही कम्पनियों के लिए आउटसोर्सिंग करते है. आगे जाने स्टार्टअप क्या है बिज़नेस आईडिया हिंदी में विकिपीडिया.

    startup kaise shuru kare

    थोड़े से जिन लोगों ने अपना कारोबार [स्टार्टअप] शुरू किया उन्होंने दुनिया की बड़ी कम्पनियों को चुनोती दी है. हाल ही में आप फ्लिप्कार्ट और स्नेपडील की मिसाल दे सकते है. इन दोनों कम्पनियों ने दुनिया की सबसे बड़ी ऑनलाइन कम्पनी अमेज़न को टक्कर दी है.

    स्टार्टअप क्या है बिज़नेस आईडिया हिंदी में

    ऐसे और भी कई स्टार्टअप है, जिन्होंने भारत में युवाओं को उद्धमशीलता की और आकर्षित किया. हालाँकि इनमे बहुत सारे ऐसे है, जिन्होंने कारोबार शुरू किया और बाद में उसे बड़ी कम्पनी के हाथों बेच कर बाजार से निकल गए. लेकिन जो टिके हुए है, वे अच्छा काम कर रहे है.
    • ऑनलाइन मार्केटिंग महानगरों और छोटे-बड़े शहरों में रहने और इन्टरनेट का इस्तेमाल करने वाला शायद ही कोई व्यक्ति होगा, जिसने ऑनलाइन आर्डर करके कोई सामान नहीं मांगना होगा. ऑनलाइन कारोबार करने वाली कम्पनियों ने सामान की डिलेवरी पर भुगतान और सामान पसंद नहीं आने पर आसान रिटर्न की नीति बना कर घर बैठे ग्राहकों को लुभाया है. इस तरह की कम्पनियों में आपने फ्लिप्कार्ट अमेज़न, स्नेपडील, ओल्क्स आदि का नाम सुना होगा. लेकिन इनके अलावा भी कई कम्पनियां है, जो घर बैठे हर तरह के सामान की आपूर्ति कर रही है.
    • घरेलू सामान ऐसी कम्पनियों में से एक कम्पनी Ask Me Grocery है. आप Ask Me Grocery पर जाकर आप घर की जरूरत और अपनी निजी जरूरत की कोई भी चीज Order कर सकते है. 2015 में इसकी शुरुआत अंकित जैन ने की थी. Grocery बेचने बाले छोटे दुकानदारों और घर बैठे खरीददारों को ध्यान में रख कर ऑनलाइन ई कामर्स की यह कम्पनी शुरू की. इसका मॉडल हाइपर लोकल बिज़नस का है और इसका दावा है की चार से छह घंटे में आपके घर पर सामान की डिलेवरी हो जाएगी. यह अभी 38 शहरों में सेवा दे रही है और 8 शहरों में और इसका विस्तार होना है. कम्पनी का दावा है की ऑनलाइन Grocery खरीदारी की यह सबसे बड़ी स्टार्टअप कम्पनी है
    • ऑटोमोबाइल एक तरफ सारी चीने ऑनलाइन बेचने वाली वेबसाइट की बाढ़ आई है तो दूसरी और अलग-अलग सेक्टर के उत्पाद बेचने वाली स्पेशलाइज Websites भी बन रही है. ऐसे स्टार्टअप में डूरूम का नाम लिया जा सकता है, जो नई और इस्तेमाल की हुयी ऑटोमोबाइल खरीद-बिक्री की साईट है. डूरूम डॉट इन पर जाकर आप इसकी सेवा ले सकते है. संदीप अग्रवाल ने 2015 में इस ई कामर्स सेवा की शुरुआत की थी. शहरी इलाकों को ध्यान में रखकर इसे चलाया जा रहा है. कम्पनी का दावा है की पुरानी गाड़ियां यहां से पुरे भरोसे के साथ खरीदी जा सकती है, क्योंकि इनकी जांच और कीमत तय करने में कम्पनी बहुत वैज्ञानिक तरीके अपनाती है.
    • तकनीकी कुछ समय पहले तक कोई भी तकनीक खरीदारी करने या तकनीकी मदद के लिए लोगों को बहुत सोचना होता था. लेकिन नए स्टार्टअप ने इसे बहुत आसान बना दिया है. आप कोई भी उत्पाद खरीद सकते है या तकनिकी मदद हासिल कर सकते है. ऐसा एक स्टार्टअप लेटेस्ट वन है. www.latestone.com से इसकी सेवा ली जा सकती है. हैदराबाद स्थित इस कम्पनी की शुरुआत अमीन ख्वाजा ने 2014 में की थी. इसका फोकस टेक्नीकल चीजों पर है. इस ईकामर्स साईट की मदद से आप किसी तरह की हेल्थ, कंप्यूटर, स्मार्टफ़ोन आदि खरीद सकते है.
    • फर्नीचर घर का फर्नीचर खरीदना आसान बात नहीं है उसकी क्वालिटी डिजाइनऔर कीमत तीनों में बेहतर तालमेल की जरूरत होती है. इस काम में आपकी मदद करने के लिए ऑनलाइन ईकामर्स कम्पनी मेबेलकार्ट है. इसे 2012 में रंजीत, विमल और निखिल ने शुरू किया था. कम्पनी आने वाले दिनों में हाइपर लोकल मॉडल पर जाने वाली है. यह वन स्टॉप डेस्टिनेशन है, जहां से आप अपने बेडरूम, लिविंग रूम स्टडी और यहां तक की किचन के लिए सारे फर्नीचर खरीद सकते है. 
    • सलाह आपको किसी मसले पर सलाह चाहिए या कोई मदद चाहिए तो इस काम के लिए एनिथिंग 500 एक स्टार्टअप है. एनिथिंग 500 की मदद से आप कोई तकनिकी सहायता हासिल कर सकते है या रचनात्मक सहयोग भी पा सकते है. मिसाल के लिए आपको लोगो डिजाईन करना हो तो आप इसकी मदद से किसी क्रिएटिव कलाकार से बात कर सकते है और वह आपकी मदद कर सकता है. इसके नाम में जो 500 लगा है, उसका मलतब है की आपको यहां से हर तरह की सेवा सिर्फ 500 रूपये में मिलेगी. 
    • खानपान आपने फ़ूडपांडा का नाम सुना होगा लेकिन हम आपको फ़ूडपांडा के बारे में बता रहे है. फ़ूडपांडा से आप हर तरह के खाने का आर्डर दे सकते है. इसकी खासियत यह है की आपको बिलकुल घर में बने खाने जैसा खाना मिलेगा. 2014 में वेंदान्त कनोल ने इसकी शुरुआत की थी. इसने दिल्ली और एनसीआर में होम शेफ्स और कैटर्र्स को जोड़ा है जो आपकी पसंद का खाना बना कर आपको भेजेंगे. यहां से आपको 30 तरह के खान-पान के कुल 4500 आइटम मिल सकते है. कैटर्र्स और शेफ्स को साथ में कनेक्ट करने से पहले कम्पनी ने उनकी क्वालिटी और दूसरी तमाम चीजों को जांचा परखा है. दिल्ली एनसीआर में इसके साथ अभी करीब 800 शेफ्स कनेक्टेड है और यह वेबसाइट करीब 10000 लोगों को अपनी सेवा दे रही है. इसका फोकस ऐसा कामकाजी वर्ग है, जिसे रोज खाना मंगाना है.